Dec 29, 2012

कैसे कहूँ इस मौत को कि ठीक है!

कैसे कहूँ
इस मौत को
कि ठीक है!

कैसे कहूँ
इस मौन को
कि ठीक है!

जब व्यवस्था ही
व्यवस्थित न रही
राजधानी में भी
बस्ती न रही
-एक बेटी तक
सुरक्षित न रही
आदमी के कुछ भी
बसकी न रही

तब मौत ने
इक सिरहाना दे दिया
तोड़ कर रौंदे गए
अगुआ हुए विश्वास को
एक भरोसा, एक बहाना दे दिया

दानवों की
दहशतों के दौर में
मगरमच्छी
आंसुओं के बौर में

कैसे कहूँ
इस मौत को
कि ठीक है!

कैसे कहूँ
इस मौन को
कि ठीक है...

-अजय मलिक (c)
 

Dec 25, 2012

विंडोज़ 8: श्रुतलेखन पास - मंत्र फेल

विंडोज़ 8 पर श्रुतलेखन राजभाषा आसानी से स्थापित हो जाता है किन्तु सीडैक द्वारा विंडोज़ 7 के लिए जारी पैच एसएलआर स्थापित नहीं होता। इसके बावजूद भी श्रुतलेखन विंडोज 8 में काम करता है। पिछले दिनों नई दिल्ली में प्राध्यापक मित्र  श्री विक्रम सिंह से श्रुतलेखन पर आधी-अधूरी सी चर्चा हुई थी। वापस लौटकर एक-दो दिन उलझने के बाद जो एक बात मेरी समझ में आई , वह यह है कि यदि विंडोज़ 7 या 8 में कीबोर्ड लेआउट आईएमई या माइक्रोसॉफ़्ट इंडिक लैड्ग्वेज इंडिक टूल्स का चयन करने के बाद डिक्टेशन शुरू किया जाए तो श्रुतलेखन से काफी हद तक सही परिणाम प्राप्त किए जा सकते हैं। इसका मतलब है कि आपके कंप्यूटर में हिन्दी यूनिकोड सक्रिय हो और समुचित आईएमई वगैरा इंस्टाल होने के साथ-साथ श्रुतलेखन पर कार्य करते समय हिन्दी कीबोर्ड का चयन किया हुआ होना चाहिए। श्रुतलेखन इंस्टाल होने के बाद आपके डेस्क टॉप पर 4 आइकॉन दिखाई दे सकते हैं, इनमें से दो आइकॉन श्रुतलेखन के लोगो जैसे दिखाई देते हैं जबकि दो वाणीलेखन से संबन्धित हैं। आपको श्रुलेखन राजभाषा वाले आकोन को डबल क्लिक करके अथवा आवश्यकतानुसार दाया क्लिक-> रन एज़ एडमिनिस्ट्रेटर को क्लिक करके आगे बढ़ाना है।  श्रुतलेखन टूलबार आमतौर पर विंडोज़ एक्सपी में ही काम करता है। विंडोज़ के अन्य संस्करणों पर इसके काम करने  की संभावनाएं बहुत कम हैं। यदि विंडोज़ एक्सपी में हिन्दी कीबोर्ड का चयन नहीं किया जाएगा तो टूल बार के परिणाम खाली डिब्बे भर होंगे।
 
श्रुतलेखन पर काम करते समय माइक्रोफोन सैटिंग्स  को लगातार चैक करते रहें। वैसे तो माइक एवं माइक्रोफोन बूस्ट को अधिकतम पर रखने की सिफ़ारिश की जाती है लेकिन कुछ लैपटॉप्स में रिकोर्डिंग डिवाइस -> माइक प्रॉपर्टीज़ -> लेवल्स -> माइक एवं माइक्रोफोन बूस्ट को अधिकतम पर रखने पर समस्या भी आ सकती है। मेरा विचार यह है कि माइक्रोफोन बूस्ट को 20 dB से अधिक न रखा जाए, कुछ लेपटॉप्स में यह अधिकतम 30 डीबी या उससे अधिक हो सकता है।
 
विंडोज़ 8 में मंत्र राजभाषा एसक्यूएल सर्वर पर आकर इंस्टाल होना बंद हो जाता है। मुझे लगता है कि विंडोज़ 8 के लिए उपयुक्त एसक्यूएल सर्वर के साथ ही इसे स्थापित कर पाना संभव हो सकता है।
-अजय मलिक

बड़े दिन पर बहुत बड़ी-बड़ी शुभकामनाएँ


Dec 23, 2012

सही है तो बहुत है ... कुछ मुक्तक ...

(1)

सही है

तो बहुत है

बस एक सही

चाहे फिर

और एक

न सही 


(2) 

एक 

कलम से 

कौम 

कलम हो गई 

एक 

कलम से 

कौम 

कलमी हो गई 

एक 

कलम से 

सारे कमल 

खिल उठे 

एक

कलम से 

दुनिया 

कमली हो गई 


(3)

थक गईं
सरकार
और सोती रहीं
रात-दिन
सड़कें
कफ़न ढोती रहीं 
(4) 

नहीं,
वह अबला नहीं थी
जो
बस कायरों के
काफ़िले में
घिर गई।  

-अजय मलिक (c)


Dec 22, 2012

10 केंद्रीय विश्वविद्यालयों में हिन्दी विभाग ही नहीं: डा. रामप्रकाश

देश की राजभाषा हिंदी को पूरा मान-सम्मान तभी मिलेगा, जब यह भाषा देश के उच्च शिक्षण संस्थानों में पढ़ाई जाएगी। इसके लिए आवश्यक है कि प्रत्येक विश्वविद्यालय में हिंदी विभाग का गठन हो, लेकिन विडम्बना यह है कि देश को आजाद हुए 60 साल से भी अधिक हो चुके हैं, लेकिन आज तक देशभर में स्थित आधे से अधिक विश्वविद्यालयों में हिंदी विभाग का गठन भी नहीं हुआ। आज समय की मांग है कि प्रत्येक विश्वविद्यालय में हिंदी विभाग का गठन हो। यह मांग देश की सबसे बड़ी पंचायत में राज्यसभा सांसद डॉ. रामप्रकाश ने उठाई। - दैनिक ट्रिब्यून

पूरी खबर पढ़ने के लिए कृपया नीचे दिए लिंक पर करें-

Dec 18, 2012

विन्डोज़ 8 के ज़लवे : सब हिंदी-हिंदी हो जाए







Dec 8, 2012

"जल रहा है देश सारा और हम खामोश हैं" - डॉ कुँवर बेचैन

(फेसबुक से ली गई डॉ कुँवर बेचैन की एक गजल के अंश )
जल रहा है देश सारा और हम खामोश हैं
ज़र्रा-ज़रा है अंगारा और हम खामोश हैं

चाकुओं की नोक पर हैं अब हमारी गरदने
गरदनों पर है दुधारा और हम खामोश हैं

-कुंवर बेचैन

Dec 7, 2012

इफ़्फ़ी में भारतीय पेनोरमा के उद्घाटन के अवसर पर ओमपुरी (ब्लैकबेरी आडिओ)


सेल्यूलाइड मैन  के प्रदर्शन से पूर्व ओमपुरी ने क्या कहा ?
यह जानने के लिए नीचे लिंक को क्लिक करें 

इफ़्फ़ी में क्रिस्टोफ ज़ानुसी ने क्या कहा ... (ब्लैकबेरी आडिओ )

गोवा में अपनी प्रेस वार्ता के दौरान क्रिस्टोफ जानुसी को सुनने के लिए कृपया नीचे दिए लिंक को क्लिक करें 

Dec 6, 2012

ऐसे दौड़ते हैं घोड़े फिल्मों में

video

Dec 5, 2012

हिन्दी प्रूफिंग टूल यानी वर्तनी शोधक


अब पाइए हिन्दी के लिए भी प्रूफिंग  टूल्स यानी वर्तनी शोधक । जी हाँ, विंडोज़ 8 एंटरप्राइज़ में माइक्रोसॉफ्ट  ऑफिस 2013 के साथ माइक्रोसॉफ्ट इंडिक लैड्ग्वेज इनपुट टूल स्थापित यानी इंस्टाल करने के बाद जब आप वर्ड खोलेंगे तो आपको यह टूल डाउनलोड करने का सुझाव मिलेगा । हिन्दी प्रूफिंग टूल्स का साइज़ मात्र 1.28 एमबी है। मैंने  अभी बहुत ज्यादा खोज-ख़बर तो इसकी नहीं ली है मगर शब्दों को गलत टाइप करने पर यह बिलकुल अँग्रेजी की अशुद्धियों यानी वर्तनी की त्रुटियों की तरह ही अशुद्ध हिंदी शब्द के नीचे लाल निशान दिखाता है और दायां (राइट) क्लिक करने पर सही विकल्प भी सुझाता है।
-अजय मलिक

Nov 22, 2012

भारत का 43वां अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव मेरे ब्लैकबेरी की नज़र से (1) - अजय मलिक


video
 
video
 
video
 

video



 

भारत का 43वां अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव मेरे ब्लैकबेरी की नज़र से (3) - अजय मलिक



video
 
video
 
video

भारत का 43वां अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव मेरे ब्लैकबेरी की नज़र से (3) - अजय मलिक


video

video

video

video


video

भारत का 43वां अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव मेरे ब्लैकबेरी की नज़र से (4)- अजय मलिक


video


video

video

Nov 15, 2012

पहले दौर में विंडोज 8 में लीला पास, टिबिल फेल

पिछली पोस्ट में वादा किया था कि नई अतिसूक्ष्म नरम खिड़की 8 व्यावसायिक यानी माइक्रोसॉफ्ट विंडोज 8 प्रोफेशनल में राजभाषा विभाग के लीला सॉफ्टवेयर्स और टिबिल का परीक्षण कर जानकारी दूंगा।
 
 
तो पहली अच्छी खबर यह है कि माइक्रोसॉफ्ट विंडोज 8 प्रोफेशनल (64 बिट) में राजभाषा विभाग के तीनों लीला सॉफ्टवेयर्स (प्रबोध, प्रवीण, प्राज्ञ ) बिना किसी परेशानी के इंस्टाल/ स्थापित हो जाते हैं।
 
विंडोज विस्ता जैसी नियंत्रक यानी अडमिनिस्ट्रेटर के जारिए ही चलाने की बाध्यता नहीं है। बस दो बार यानी डबल क्लिक कीजिए और शुरू हो जाइए। शायद ग्राफिक्स का कमाल है या कुछ और किन्तु फॉन्ट/अक्षर/शब्द ज्यादा आकर्षक और साफ दिखाई देते हैं। आवाज भी तुलनात्मक रूप से साफ सुनाई देती है।
 
लेकिन लीला प्रबोध में वर्णक्रम के अनुसार लिखना सिखने के अभ्यास की विंडो में पहले स्वर यानी पर पहले जैसी ही त्रुटि दिखाई देती  है और इसे बंद करना पड़ता है। अन्य स्वर अथवा व्यंजन के साथ ऐसी कोई एरर / त्रुटि सामने नहीं आती।
 
यदि इस एक त्रुटि को नज़र अंदाज़ कर दिया जाए तो विंडोज 8 में तीनों लीला सॉफ्टवेयर आसानी से काम करते हैं।
 
विंडोज 8 प्रोफेशनल (64 बिट) में टिबिल के इन्स्टालेशन में कोई समस्या नहीं है। यह चलता भी है मगर परिणाम एरर के अतिरिक्त कुछ नहीं देता।
 
मुझे लगता है कि यह समस्या किसी अपडेट की वजह से है क्योंकि विंडोज 7 अल्टिमेट (32 तथा 64 बिट दोनों संस्करणों ) में भी अपडेट्स के बाद यह काम करने में ना-नुकर करता है। इस पर तो हमारे आईटी विशेषज्ञ ही कुछ बता सकते हैं।
 
- अजय मलिक

Nov 14, 2012

विंडोज़ 8, ऑफिस 2013 और हिंदी / इंडिक यूनिकोड

इससे पहले कि अंकल शेरसिंघ के अनगिनत शेर झपट पडें... आइए, आज आपको विंडोज़ 8, ऑफिस 2013 और हिंदी / इंडिक यूनिकोड का पिटारा अर्थात LILA दिखाता हूँ।

यह तो मैं पहले ही बता चुका हूँ कि मैं एक अनगढ़, अनपढ़ जैसा आदमी हूँ और शायद इसी वजह से पढे-लिखे लोगों के साथ मेरी पटरी कुछ कम ही बैठती है।
 
मेरे पास पढ़ने के लिए, पढे -लिखे महानुभाव तो मेरे अनपढ़पन की वजह से नहीं आते और अनपढ़ मुँह बिचका कर चले जाते हैं कि ये जब खुद अनपढ़ है तो हमें क्या पढ़ाएगा! अब ऐसे हालात में मेरे पास खुद को ही कुछ पढ़ने-पढ़ाने और लगातार सताते रहने के अतिरिक्त कोई चारा नहीं बचता। इस घनचक्करीपन में कई बार मैं घन की बजाय धड़े (पाँच किलो के लोहे के बाट) से कीकर काटने लगता हूँ। इससे पेड़-वेड़ तो कुछ कटता-कटाता है नहीं परंतु मेरे हाथ शायद मज़बूत होते हैं।
पिछले दो-तीन दिन से दिवाली के पटाखे जलाने की बजाय मैं माइक्रोसॉफ्ट की नई खिड़की यानी विंडोज़ 8 के चार संस्करणों क्रमश: विंडोज़ 8 आरटी, विंडोज़ 8, विंडोज़ 8 प्रोफेशनल, विंडोज़ 8 एंटरप्राइज़ की खोज-खबर लेने में लगा रहा। अंतिम दो के बारे में, जोकि अधिक सुविधायुक्त हैं, मोटे तौर पर यह समझ में आया कि विंडोज़ 8 प्रोफेशनल में, विंडोज़ 7 प्रोफेशनल एवं विंडोज़ 7 अल्टिमेट की सारी सुविधाएं हैं जबकि विंडोज़ 8 एंटरप्राइज़ इनका भी बाप ... मेरा मतलब इनसे काफी एडवांस है।
 


पिछले दिनों किसी मित्र ने लीना महेंडले जी से पूछा था कि विंडोज़ 7 अल्टिमेट में देवनागरी / हिंदी इनस्क्रिप्ट कुंजीपटल सही से है भी कि नहीं? तो मित्रों विंडोज़ 7 अल्टिमेट ही नहीं बल्कि विंडोज़ 8 के भी सभी संस्करणों में देवनागरी / हिंदी इनस्क्रिप्ट कुंजीपटल बिलकुल हृष्ट-पुष्ट-तंदुरुस्त स्थिति में मौजूद है और हिंदी ट्रेडीशनल भी बखूबी काम करता है। इंडिक 2 यानी आईएमई 2 इसमें अभी काम नहीं कर रहा है।

हिंदी, तमिल, मलयालम एवं अन्य भारतीय लिपियों के लिए माइक्रोसॉफ़्ट इंडिक लैड्ग्वेज इनपुट टूल स्थापित किया जा सकता है किन्तु पहले आपको एनईटी फ्रेमवर्क 3.5 जिसमें 2 भी शामिल है, स्थापित करना पड़ता है। मैंने विंडोज़ 8 के प्रोफेशनल तथा एंटरप्राइज़ 64 बीआईटी संस्करणों पर ही हिंदी में हाथ-पैर मारे हैं और नैया पार लगने में कोई कठिनाई नहीं हुई।
 
 

एक बात जरूर ध्यान में रखिएगा -बेसिक इनपुट लैड्ग्वेज के रूप में इंग्लिश यूएस या इन्टरनेशनल का चयन करना न भूलें वरना इंग्लिश यूके कुंजीपटल पर उलझकर रह जाएंगे।

अपना रीज़न/ क्षेत्र भी सही से चुनें। अन्य विंडोज़ की तरह कंट्रोल पैनल में लैड्ग्वेज और रिजनल फोल्डर साथ-साथ नहीं हैं बल्कि दो बिलकुल अलग फ़ोल्डर्स हैं।




अब एमएस ऑफिस 2013 बीटा वर्जन की कुछ चर्चा। हिंदी यूनिकोड के 6 फॉन्ट इसमें पहले से ही मौजूद हैं।

भारतीय भाषाओं में दस्तावेज़, स्लाइड शो तैयार करने में कोई कठिनाई नहीं है। एक्सेल में भी कोई कठिनाई हिंदी यूनिकोड में काम करने में मुझे नहीं हुई। सुविधाएं इतनी ज्यादा हैं कि समझने में बरसों लग जाएंगे।

विंडोज़ 8 में टिबिल और लीला सॉफ्टवेर की चर्चा आगे फिर कभी। श्रुतलेखन का मामला कुछ ऐसा है कि डराता है मुझे... कभी रुलाता है...कभी चल भी जाता है तो कभी चलाता है मुझे... (दिल तो पागल है)!!!
 
-अजय मलिक
 

Nov 12, 2012

जलाओ दिए मगर रोशनी के



(दोनों ही चित्र फेसबुक से साभार )

रखना दीप सँभालकर - डॉ कुंवर बेचैन

गुरुवर डॉ कुंवर बेचैन जी  की प्रेमगीत पुस्तक के एक गीत के ज़रिये सभी को दिवाली और दीपावली की ढेर सारी फुलझड़ियों के साथ हार्दिक शुभकामनाएँ। क्षमा याचना के साथ एक फुलझड़ी के रूप में उनके इसी गीत का  बिना  किसी काट-छाट के  अंग्रेज़ी में मशीनी अनुवाद भी दिया जा रहा है-


 चढ़ो अटारी धीरे-धीरे
 रखना दीप संभालकर
 एक शिकन भी रह न जाये अँधियारे के गाल पर ।

       पहन घाघरा, चूड़ी, बिछिया
       छनका,  घुँघरू   पाँव   के
       ज्योतित कर सारे दीपों को 
       अपने     तन के गाँव के

 चढ़ो अटारी धीरे-धीरे
 रखना दीप सँभालकर
 जैसे तुम बेंदी रखती हो अपने  गोरे  भाल  पर ।

        करके मांग सिंदूरी अपनी
        दृग में काजल   आँजकर
        अपने तन-मन की मूरत को
        और प्यार से  माँजकर

 चढ़ो अटारी धीरे-धीरे
 रखना दीप संभालकर
 ज्यों मंहदी के फूल काढ़तीं, तुम मन के रूमाल पर ।

         हँसुली, हार और लटकारा
         बाजूबंद  हमेल   से
         कह देना नथुनी-कुंडल से
         सदा   रहें वे मेल से

 चढ़ो अटारी धीरे-धीरे
 रखना दीप संभालकर
 ज्यों तुम विमल चाँदनी मलतीं, तन के लाल गुलाल पर।


-डा॰ कुँअर बेचैन 

     (-डा॰ कुँअर बेचैन की "प्रेमगीत" पुस्तक के पृष्ठ 41 से)पहन घाघरा)), चूड़ी, बिछिया
छनका, घुँघरू पाँव के
ज्योतित कर सारे दीपों को
अपने तन के गाँव के
चढ़ो अटारी धीरे-धीरे
रखना दीप सँभालकर
जैसे तुम बेंदी रखती हो अपने गोरे भाल पर ।

करके मांग सिंदूरी अपनी
दृग में काजल आँजकर
अपने तन-मन की मूरत को
और प्यार से माँजकर
चढ़ो अटारी धीरे-धीरे
रखना दीप संभालकर
ज्यों मंहदी के फूल काढ़तीं, तुम मन के रूमाल पर ।

हँसुली, हार और लटकारा
बाजूबंद हमेल से
कह देना नथुनी-कुंडल से
सदा रहें वे मेल से
चढ़ो अटारी धीरे-धीरे
रखना दीप संभालकर
ज्यों तुम विमल चाँदनी मलतीं, तन के लाल गुलाल पर।

-
डा॰ कुँअर बेचैन-

-
डा॰ कुँअर बेचैन के प्रेमगीत पुस्तक से, पृष्ठ 41पहन घाघरा, चूड़ी, बिछिया
छनका, घुँघरू पाँव के
ज्योतित कर सारे दीपों को
अपने तन के गाँव के
चढ़ो अटारी धीरे-धीरे
रखना दीप सँभालकर
जैसे तुम बेंदी रखती हो अपने गोरे भाल पर ।

करके मांग सिंदूरी अपनी
दृग में काजल आँजकर
अपने तन-मन की मूरत को
और प्यार से माँजकर
चढ़ो अटारी धीरे-धीरे
रखना दीप संभालकर
ज्यों मंहदी के फूल काढ़तीं, तुम मन के रूमाल पर ।

हँसुली, हार और लटकारा
बाजूबंद हमेल से
कह देना नथुनी-कुंडल से
सदा रहें वे मेल से
चढ़ो अटारी धीरे-धीरे
रखना दीप संभालकर
ज्यों तुम विमल चाँदनी मलतीं, तन के लाल गुलाल पर।

-
डा॰ कुँअर बेचैन-

-
डा॰ कुँअर बेचैन के प्रेमगीत पुस्तक से, पृष्ठ 41पहन घाघरा, चूड़ी, बिछिया
छनका, घुँघरू पाँव के
ज्योतित कर सारे दीपों को
अपने तन के गाँव के
चढ़ो अटारी धीरे-धीरे
रखना दीप सँभालकर
जैसे तुम बेंदी रखती हो अपने गोरे भाल पर ।

करके मांग सिंदूरी अपनी
दृग में काजल आँजकर
अपने तन-मन की मूरत को
और प्यार से माँजकर
चढ़ो अटारी धीरे-धीरे
रखना दीप संभालकर
ज्यों मंहदी के फूल काढ़तीं, तुम मन के रूमाल पर ।

हँसुली, हार और लटकारा
बाजूबंद हमेल से
कह देना नथुनी-कुंडल से
सदा रहें वे मेल से
चढ़ो अटारी धीरे-धीरे
रखना दीप संभालकर
ज्यों तुम विमल चाँदनी मलतीं, तन के लाल गुलाल पर।

-
डा॰ कुँअर बेचैन-

-
डा॰ कुँअर बेचैन के प्रेमगीत पुस्तक से, पृष्ठ 41
पहन घाघरा, चूड़ी, बिछिया
छनका, घुँघरू पाँव के
ज्योतित कर सारे दीपों को
अपने तन के गाँव के
चढ़ो अटारी धीरे-धीरे
रखना दीप सँभालकर
जैसे तुम बेंदी रखती हो अपने गोरे भाल पर ।

करके मांग सिंदूरी अपनी
दृग में काजल आँजकर
अपने तन-मन की मूरत को
और प्यार से माँजकर
चढ़ो अटारी धीरे-धीरे
रखना दीप संभालकर
ज्यों मंहदी के फूल काढ़तीं, तुम मन के रूमाल पर ।

हँसुली, हार और लटकारा
बाजूबंद हमेल से
कह देना नथुनी-कुंडल से
सदा रहें वे मेल से
चढ़ो अटारी धीरे-धीरे
रखना दीप संभालकर
ज्यों तुम विमल चाँदनी मलतीं, तन के लाल गुलाल पर।

-
डा॰ कुँअर बेचैन-

-
डा॰ कुँअर बेचैन के प्रेमगीत पुस्तक से, पृष्ठ 41

Keep lamp sanbhalkar

 
Climb slowly attic
Keep the lamp platform
Not a wrinkle on the cheek also should be andhiyare

Wear my ghaghra wouldn't stop, Bangle, bichiya
Chanka, toe, ghungharu
To all you jyotit dipon
Village of your Tan

Climb slowly attic
Keep lamp sanbhalkar
Looks like you're on your whites bendi holds project

Your demand by sender
Drig anjakar in mascara
The mind of his Tan-murat
Manzarek and love

Climb slowly attic
Keep the lamp platform
Flowers of kadhtin, as manhadi you mind handkerchief.

Helens, necklace and lektor
Bajuband from hamel
Nathuni to say-coil from the
Are they ever mail

Climb slowly attic
Keep the lamp platform
As you Bimal Moonlight on red galilee maltin, Tan

-Da॰-kunar restless
-Dapremgit of the book, page 41 kunar restless